28.9 C
Munich

हाथियों के झुंड ने ग्रामीणों का घर किया क्षतिग्रस्त, फसल भी रौंदा

Must read

विभाग कर रहा नुकसान का आंकलन, जनहानि नही, हाथी से बचाव के लिए लगातार किए जा रहे कई प्रयास
रायगढ़। सारंगढ़ वन मंडल के गोमार्डा अभ्यारण्य में इन दिनों 23 हाथियों का दल विचरण कर रहा है। ऐसे में बीते रात हाथियों का झुंड अभ्यारण्य के भीतर अचानक गांव में पहुंच गया और यहां लगभग सात किसानों का कच्चा मकान क्षतिग्रस्त करते फसलों को चैपट कर दिया। जहां सुबह नुकसान का आंकलन कर मुआवजा के लिए आगे की प्रक्रिया की जा रही है।
इस संबंध में मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात गोमार्डा अभ्यारण्य क्षेत्र के घने जंगलों से निकल कर करीब 23 हाथियों का दल अचानकपाली गांव तक पहुंच गया। यहां खेतों में चलकर काफी मात्रा में हाथियों ने फसल चैपट कर दिया। साथ ही साथ लगभग साथ किसानों के झोपड़ीनुमा मकानों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथियों की जानकारी लगते ही रात में विभागीय अमला मौके पर पहुंच गया और ग्रामीणों की मदद से हो हल्ला कर हाथियों को जंगल की ओर खदेड़ा गया। सुबह विभाग के कर्मचारी फसलों और क्षतिग्रस्त मकानों के आंकलन में जुट गए हैं। नुकसान के आंकलन के बाद ग्रामीणों को मुआवजा दिया जाएगा।

विभाग की दिखी सक्रियता, पहले ही ग्रामीणों को हटा दिया
हाथियों की मौजूदगी को देखते हुए विभाग लगातार अलर्ट मोड पर है। डीएफओ सहित विभाग के अन्य अधिकारी लगातार हाथियों की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वहीं जिसका नतीजा कल देखने को मिला कि हाथियों की जानकारी होने पर शाम को ही अचानकपाली गांव में मुनादी करा कर सर्तक रहने कहा गया। साथ ही कई ग्रामीणों को यहां से हटा कर दूसरे जगह ठहरा दिया गया था। इससे कल कोई जनहानि नही हुई और विभाग की सतर्कता से बड़ी घटना होते होते भी टल गई।

ट्रेकर कर रहे लगातार निगरानी
हाथियों की निगरानी की जा सके इसके लिए ट्रेकर नियमित रूप से ट्रेकिंग करते हुए विभागीय अधिकारियों को हाथियों की जानकारी दे रहे हैं। यही नहीं जिन क्षेत्रों में हाथियों की चहलकदमी देखी जा रही है। वहां के आसपास के गांव में मुनादी कराकर ग्रामीणों को भी सतर्क किया जा रहा है। ताकि क्षेत्र में कोई बड़ी घटना न हो सके।
23 हाथियों का दल कर रहा विचरण
इस संबंध में सारंगढ़ वन मंडल के डीएफओ गणेश यू आर ने बताया कि 23 हाथियों का दल अचानकपाली गांव तक पहुंचा था। कुछ कच्चे मकानों और फसल को नुकसान किया गया है। ग्रामीणों को पहले ही अन्य जगह ठहरा दिया गया था। कोई जनहानि नही है। नुकसान का आंकलन कर मुआवजा की प्रक्रिया पूरी की जा रही है।    

More articles

Latest News